Ads Top

अविष्कार जो गलती से हुए


दोस्तों आज मैं आपको कुछ ऐसे inventions के बारे में बताऊंगा जिनका ईजाद गलती से हो गया था ,तो चलिए शुरू करते हैं ,




* X-Ray
जी हां ,x ray का ईजाद गलती से हो गया था । भौतिकशास्त्री  Wilhelm Conrad Röntgen ने  कैथोडिक rays tube बनाते वक़्त देखा की अपारदर्शी  कवर होने के बावजूद  नीचे रखा पेपर दिखाई दे रहा हैं ,और इस प्रकार x ray की अचानक से खोज हो गयी थी ।

* माइक्रोवेव
इसका ईजाद Percy Spencer ने किया था ,गलती से ।  वह वैक्यूम ट्यूब के जरिये  रडार पर रीसर्च कर रहे थे । उन्होंने इसके लिए कई मशीने बनायीं थी ,इसी रीसर्च के दौरान उन्होंने देखा की उनके जेब में रखा कैंडी बार पिघल रहा हैं ,ये देख कर उन्हें अचरच हुआ । फिर उन्होंने उस मशीन में पॉपकॉर्न डाल के देखा तो पॉपकॉर्न फूटने लगे और इस प्रकार माइक्रोवेव का ईजाद हुआ ।






* पेसमेकर
इलेक्ट्रिक इंजीनियर  John Alexander Hopps रेडियो फ्रिक्वेंसी के जरिये बॉडी टेम्प्रेचर को रिस्टोर करने के प्रोजेक्ट पर काम कर रहे थे । उसी दौरान उन्होंने देखा की दिल ठण्ड के कारण जब धडकना बंद कर देता है तो वह कृत्रिम उत्तेजना के  द्वारा फिर से भी धडकना चालू हो जाता है और इस प्रकार पेसमेकर वजूद में आया ।

* पेनिसिलिन
अलेक्जेंडर फ्लेमिंग घाव को भरने वाली दवा का ईजाद करना चाहते थे लेकिन हर बार उन्हें unsucess ही हाथ लग रही थी तब हार मानकर उन्होंने एक्सपेरिमेंट की चीजो को बाहर उठा कर फेंक दिया कुछ दिनों बाद उन्होंने नोटिस किया कि वहां आसपास की बैक्टीरिया समाप्त हो रही है और इस तरह पेनिसिलिन का ईजाद हुआ ।

* coca cola
सिरदर्द का इलाज़ तैयार करने के लिए एक फार्मासिस्ट ने कोला नट और कोला की पत्तियों का इस्तेमाल किया । उसने इन दोनों को कार्बोनेटेड वाटर के साथ मिला दिया तो उसे एक बेहतरीन स्वाद मिला । कोला के कारण इसका नाम कोका कोला पड़ा। पर हां इसमें बाद में कई सारे सीक्रेट इंग्रिडिएंड्स भी डाले गए जो आज तक राज हैं ।

* टेफ़लोन  teflon
टेफ़लोन का ईजाद Roy J. Plunkett ने किया था । असल में वह रेफ्रिजेन्ट का विकल्प तलाश रहे थे ,उन्होंने कुछ सैम्पल्स का ईजाद किया था जिसे उन्होंने टाइट बॉक्स में रखा था । कुछ समय बाद उन्होंने देखा की बॉक्स की अंदर की गैस गायब है और उसकी जगह फिसलनदार रेजिन के अवशेष बचे है इस अवशेष में हीट और कैमिकल्स की प्रतिरोध छमता थी ,और इस तरह टेफ़लोन का ईजाद हुआ । बाद में इसका use नॉनस्टिक बर्तनों और स्पोर्ट्स आइटम्स में होने लगा ।

*  potato chips
1953 में जॉर्ज ट्रम नाम के एक शेफ अपने कस्टमर के लिए फ्रेंच फ्राइज बना रहे थे । कस्टमर ने कहा कि फ्रेंच फ्राइज पतली और कुरकुरी होनी चाहिए और फिर ऐसे ही बनाते बनाते पोटैटो चिप्स वजूद में आया ।

            * * * * * * * * * * * * * * *

अगर आपको यह post रोचक और लाभकारी लगी हो तो share और comment जरूर करे ,और हमारी साइट का bookmark अवश्य बनाये ।
                 धन्यवाद .........

No comments:

Powered by Blogger.